पंचतिक्तघन वटी

पंचतिक्तघन वटी

द्रव्य- सप्तपर्ण की ताजी अन्तर छाल कांटे वाले  करंज के ताजे पत्ते गिलोय ताजी चिरायता और कुटकी इन 5 द्रव्यों को 1 – 1 सेर लेवें | Continue reading “पंचतिक्तघन वटी”